Ujjain News: Separate Line For Darshan In Mahakal Temple On New Year 2024 – Amar Ujala Hindi News Live

Ujjain News: Separate Line For Darshan in Mahakal Temple On New Year 2024

महाकाल मंदिर।
– फोटो : Amar Ujala Digital

विस्तार


अगर आप नववर्ष पर बाबा महाकाल के दरबार में दर्शन करने जा रहे हैं तो यह खबर आपके लिए अत्यंत महत्वपूर्ण है, क्योंकि 31 दिसंबर रविवार और एक जनवरी सोमवार को बाबा महाकाल के दरबार में लाखों श्रद्धालुओं के आने को दृष्टिगत रखते हुए श्री महाकालेश्वर प्रबंध समिति द्वारा व्यवस्थाओं में बड़ा बदलाव किया गया है। श्री महाकालेश्वर प्रबंध समिति के प्रशासक संदीप कुमार सोनी ने बताया कि नववर्ष पर परिवर्तित व्यवस्था के दौरान अब श्रद्धालुओं को चारधाम मंदिर के पार्किंग स्थल से निर्धारित प्रवेश देकर शक्तिपथ त्रिवेणी संग्रहालय के समीप से नन्दी द्वार, श्री महाकाल लोक, मानसरोवर भवन, फेसिलिटी सेन्टर-1, टनल, नवीन टनल-1, गणेश मण्डपम से भगवान श्री महाकालेश्वर के दर्शन कराए जाएंगे। दर्शनार्थी दर्शन उपरांत आपातकालीन निर्गम द्वार से बाहर की ओर बड़ा गणेश मन्दिर के समीप होते हुए हरसिद्धि मन्दिर तिराहा, पुन: चारधाम मन्दिर पर पहुंचकर अपने गन्तव्य की ओर प्रस्थान करेंगे।

10 लाख श्रद्धालुओं के आने का अनुमान

नववर्ष पर 10 लाख श्रद्धालुओं के आने का अनुमान है। इसीलिए 31 दिसंबर और एक जनवरी को शीघ्र दर्शन की 250 की टिकट पूर्णतः प्रतिबंधित रहेगी। इन दोनों ही दिनों में श्रद्धालु अतिशीघ्र दर्शन व्यवस्था का लाभ नहीं ले पाएंगे। 

बुजुर्ग एवं दिव्यांगजनों के लिए होगी अलग से दर्शन व्यवस्था

परिवर्तित की गई व्यवस्था के दौरान बुजुर्ग एवं दिव्यांगजनों के लिए दर्शन की अलग से व्यवस्था की गई है, जिसके लिए ऐसे श्रद्धालुओं को अवंतिका द्वार के गेट नंबर एक से प्रवेश दिया जाएगा और इन्हें सुलभ दर्शन करवाए जाएंगे। 

पांच जनवरी तक होगी चलित भस्मआरती 

नववर्ष पर लाखों श्रद्धालुओं के आगमन को लेकर भस्म आरती की चलित व्यवस्था की गई है, जिसका लाभ वर्तमान में हजारों श्रद्धालुओं को मिल रहा है। महाकालेश्वर मंदिर के प्रशासक संदीप सोनी ने बताया कि पांच जनवरी 2024 तक इसी प्रकार की चलित भस्म आरती जारी रहेगी, जिससे अधिक से अधिक श्रद्धालु बाबा महाकाल की भस्म आरती का लाभ ले सकें।

जूता चप्पल से लेकर पार्किंग और पेयजल की व्यवस्था

बाबा महाकाल के दर्शन करने आने वाले श्रद्धालुओं को किसी प्रकार की अव्यवस्था का सामना न करना पड़े। इसीलिए श्री महाकालेश्वर प्रबंध समिति द्वारा प्रसाद काउंटर, पेयजल, पार्किंग, जूता चप्पल स्टैंड, सुरक्षा की दृष्टि से सीसीटीवी कैमरे और पुलिस प्रशासन के साथ ही लगभग 1000 कर्मचारियों के ड्यूटी मंदिर परिसर में लगा दी गई है।

श्रद्धालुओं पर ड्रोन से नजर

पुलिस अधीक्षक सचिन शर्मा ने बताया कि बाबा महाकाल के दर्शन करने आने वाले श्रद्धालुओं की सुरक्षा के मदद्देनजर सभी श्रद्धालुओं पर इस बार ड्रोन से भी नजर रखी जाएगी।

महाकाल मंदिर और महाकाल लोक जाने की रहेगी अलग-अलग व्यवस्था

श्री महाकालेश्वर प्रबंध समिति अध्यक्ष और कलेक्टर कुमार पुरुषोत्तम ने बताया कि पिछले वर्ष श्री महाकालेश्वर मंदिर में नववर्ष पर सात लाख श्रद्धालु बाबा महाकाल के दर्शन करने पहुंचे थे। इस बार हमें नववर्ष पर लगभग 10 लाख श्रद्धालुओं के मंदिर आने का अनुमान है, जिसको देखते हुए ही मंदिर में व्यवस्थाएं जुटाई जा रही है। आपने बताया कि नववर्ष पर महाकाल लोक को बंद नहीं किया जाएगा। इस दिन महाकाल लोक जाने वाले श्रद्धालु और बाबा महाकाल के दर्शन करने जाने वाले श्रद्धालुओं की व्यवस्था अलग-अलग रहेगी।

वीआईपी का प्रवेश बेगमबाग वीआईपी गेट से होगा

बैठक में बताया गया कि वीआईपी/वीवीआईपी/मीडिया की इंट्री बेगमबाग के वीआईपी गेट से रहेगी। वीआईपी गेट के समीप ही बने पार्किंग पर अपने वाहन पार्क करेंगे। तत्पश्चात वहां से श्री महाकाल लोक कंट्रोल रूम, शंख द्वार, निर्माल्य द्वार से प्रवेश कर सूर्यमुखी द्वार होते हुए सभा मंडप की छत से होते हुए नन्दी मण्डपम व गणेश मण्डपम से भगवान श्री महाकाल के दर्शन कर इसी मार्ग से पुन: बाहर की ओर प्रस्थान करेंगे। वीआईपी श्रद्धालुओं के लिये मानसरोवर भवन में जूता स्टेण्ड स्थापित किया जायेगा।

श्रद्धालु बड़े  तो यह होगी दर्शन व्यवस्था

श्रद्धालुओं की संख्या अधिक होने पर फेसिलिटी सेन्टर-1 से मन्दिर परिसर निर्गम रेम्प, गणेश मण्डपम एवं नवीन टनल दोनों ओर से श्रद्धालुओं की दर्शन व्यवस्था की जायेगी। और अधिक श्रद्धालुओं की संख्या होने पर फेसिलिटी सेन्टर-1 से सीधे कार्तिकेय मण्डपम में प्रवेश कराकर दर्शन उपरान्त गेट नम्बर-10 अथवा निर्माल्य द्वार के रास्ते बाहर की ओर प्रस्थान कराने की व्यवस्था की जायेगी। श्रद्धालुओं की अधिक संख्या होने पर कार्तिकेय मण्डप रिक्त रखा जायेगा, जहां से चलित भस्म आरती की दर्शन व्यवस्था की जायेगी। 

पार्किंग स्थल से बस सेवा रहेगी उपलब्ध

बाहर से आने वाले श्रद्धालुओं के लिये अपने वाहन पार्क कर्कराज पार्किंग, भील समाज धर्मशाला एवं कलोता समाज धर्मशाला पर खड़े कर सकेंगे। इसी तरह इन्दौर रोड से आने वाले वाहनों की पार्किंग व्यवस्था रूद्राक्ष होटल के दांहिनी ओर पार्किंग व्यवस्था (शनि मन्दिर), शासकीय इंजीनियरिंग महाविद्यालय तिराहे पर हाउसिंग बोर्ड का मैदान, हरिफाटक ब्रिज के नीचे हाट बाजार, मेघदूत पार्किंग, इंजीनियरिंग कॉलेज का मैदान एवं प्रशांतिधाम पर पार्किंग व्यवस्था की जाएगी। उल्लेखनीय है कि इन पार्किंग स्थलों से बस सेवा उपलब्ध कराई जाएगी।

भजन मंडलियां देगी भजन-गायन की प्रस्तुति

श्रद्धालुओं के मध्य धार्मिक सौहार्द्र निर्मित करने अथवा धार्मिक आस्था को दृष्टिगत रखते हुए दर्शन मार्ग के अन्तर्गत चयनित मार्ग पर मंच बनाकर भजन मण्डलियां भगवान के भजन-गायन की प्रस्तुति देंगे, जिससे श्रद्धालुओं के मध्य धार्मिक वातावरण निर्मित किया जा सके। चारधाम मन्दिर पार्किंग स्थल से शक्तिपथ, त्रिवेणी मण्डपम से मानसरोवर भवन तक श्रद्धालुओं की सुविधा के लिए टेन्ट एवं मेटिंग व्यवस्था की जाएगी। दशनार्थियों के लिये पेयजल व्यवस्था भी की जाएगी। इसी तरह चिकित्सा व्यवस्था भी की जाएगी।

#Ujjain #News #Separate #Line #Darshan #Mahakal #Temple #Year #Amar #Ujala #Hindi #News #Live

Leave a Comment