इस मामले में दिल्ली को भी मात दे गया बेंगलूरु, चौंक गए दिल्लीवासी, जानिए क्या है मामला

हाइलाइट्स

दिल्ली में स्क्रैपीज पॉलिसी के चलते वाहनों की संख्या कम हुई.
अक्टूबर 2018 के बाद से संख्या में आई कमी.
बेंगलूरु में 7 प्रतिशत बढ़ गई कारों की संख्या.

नई दिल्ली. ब्‍लू चिप सिटी के नाम से मशहूर बेंगलूरु ने एक मामले में राजधानी दिल्ली को ऐसी मात दी है कि लोग चौंक गए हैं. गाड़ियों के शौकीन माने जाने वाले दिल्ली के लोग हाल ही में जारी हुई एक रिपोर्ट के बाद सोच में पड़ गए हैं. दरअसल देश में प्राइवेट कारों की संख्या के मामले में बेंगलूरु ने दिल्ली को पीछे छोड़ दिया है. सरकार की ओर से जारी दिल्ली स्टैटिक्स हैंडबुक 2023 के अनुसार 31 मार्च 2023 तक दिल्ली में रजिस्टर्ड प्राइवेट कारों की संचया 20.71 लाख थी. 2021 के बाद से इसमें करीब 38.8 प्रतिशत की गिरावट दर्ज की गई है.

वहीं कर्नाटक परिवहन विभाग के आंकड़ाें को देखा जाए तो बेंगलूरू में इस दौरान रजिस्टर्ड कारों की संख्या 22.33 लाख थी. इसमें 2021 के मुकाबेले 7.1 प्रतिशत की दर से तेजी देखी गई है.

ये भी पढ़ेंः CA की नौकरी छोड़ शुरू किया बिज़नेस तो खूब लड़ी मां, अब साल में ₹50 करोड़ का व्‍यापार करती है ये जिद्दी लड़की

क्या है कारण
दरअसल दिल्ली में वाहनों की गिरती संख्या के पीछे दिल्ली में प्रदूषण कम करने के लिए अक्टूबर 2010 में 10 साल पुराने डीजल और 15 साल पुराने पेट्रोल वाहनों पर प्रतिबंध का रहा. दिल्ली सरकार के आर्थिक सर्वेक्षण 2022-23 में कहा गया है कि वर्ष 2021-22 की अवधि के दौरान, दिल्ली में प्रति हजार जनसंख्या पर वाहनों की संख्या 472 थी. 2020-21 में यह संख्या 655 थी. गिरावट की वजह डीजल और पेट्रोल वाहनों की स्क्रैपिंग नीति थी. बता दें कि इस आर्थिक सर्वेक्षण को पिछले साल मार्च में रिलीज किया गया था.

2022 में दिल्ली में सड़क पर मोटर वाहनों (प्राइवेट कारों सहित) की कुल संख्या 79.18 लाख थी, जो 35.38 प्रतिशत की कमी दर्शाती है क्योंकि दिल्ली सरकार ने 10 साल से ज्यादा पुराने डीजल वाहनों और 15 साल से ज्यादा पुराने पेट्रोल वाहनों पर प्रतिबंध लगा दिया है. इसलिए, दिल्ली सरकार ने 2021-22 तक 48.77 लाख वाहनों का रजिस्ट्रेशन रद्द कर दिया है.

गौरतलब है कि दिल्ली में सर्दियों के मौसम और खासकर दिवाली के दौरान प्रदूषण का स्तर काफी बढ़ जाता है. जिसके बाद बीएस 4 वाहनों के चलाने पर प्रतिबंध लगा दिया जाता है. ऐसे में बड़ी संख्या में दिल्लीवासियों ने अपनी पुरानी कारों को दूसरे राज्यों में या तो बेच दिया है या फिर स्क्रैप करवा लिया है.

Tags: Auto News, Car Bike News

#इस #ममल #म #दलल #क #भ #मत #द #गय #बगलर #चक #गए #दललवस #जनए #कय #ह #ममल

Leave a Comment